Chhatrapati Shivaji Maharaj Biography in Hindi | शिवाजी महाराज जीवन परिचय

Chhatrapati Shivaji Maharaj Biography in Hindi निर्विवाद रूप से India के सबसे महान राजाओं में से एक हैं. उनकी युद्ध प्रणालियाँ आज भी आधुनिक युग में अपनायीं जातीं हैं. उन्होंने अकेले दम पर Mughal Sultanate को हराया था

Chhatrapati Shivaji Maharaj Biography in Hindi | शिवाजी महाराज जीवन परिचय

Chhatrapati Shivaji Maharaj Bhonsale का जन्म 10 अप्रैल, 1627 को Maharashtra (Shivaji Maharaj Jayanti), पश्चिमी भारत के Shivneri के किले में हुआ था। वह Ahmadnagar, दक्कन और बीजापुर राज्य में एक सैन्य अधिकारी Shahji Bonsale का पुत्र था। उनकी माता Jijabai एक अत्यंत धार्मिक महिला थीं। Shivaji Poona में अपनी माँ और अपने शिक्षक दादाजी Konda-dev की सख्त देखरेख में बड़े हुए। उन्हें Dedaji Konda-dev द्वारा एक प्रशासक और एक विशेषज्ञ सैनिक बनाया गया था।

Chhatrapati Shivaji Maharaj Biography in Hindi

Military Career (सैन्य वृत्ति)

Shivaji ने अपने career की शुरुआत Mavales के रूप में जानी जाने वाली हार्डी किसान के बैंड को इकट्ठा करके और Bijapur साम्राज्य के खिलाफ guerrilla wars शुरू करने से की। 16 साल की उम्र में, उन्होंने Bijapur साम्राज्य के तोरण किले पर कब्जा कर लिया। इसके तुरंत बाद उन्होंने Pratapgarh और Raigarh रायगढ़ जैसे नए किलों का निर्माण किया।

जब Bijapur  के Sultan ने यह देखा, तो वह घबरा गया और उसने Shivaji के पिता को हिरासत में ले लिया। Shivaji ने अपने सैन्य अभियानों को स्थगित करके और Kandana को Asil shah को सौंपकर अपने पिता की स्वतंत्रता हासिल की।

Shivaji’s Military Exploits (शिवाजी का सैन्य शोषण)

1665 में, Shivaji ने अपने आक्रामक अभियानों को फिर से शुरू किया। 1656 के January में Javli उनके नेतृत्व में आए जिसने उन्हें दक्षिण और पश्चिम में अपने क्षेत्र का आसानी से विस्तार करने की अनुमति दी। उसने Bijapur के इलाके में भी छापेमारी शुरू कर दी। Shivaji ने Pratapghad में एक रणनीतिक किले का निर्माण किया और Konkan में उनकी ताकत बढ़ गई। उनकी सेना ने कल्याण के पास दमन में Portuguese colony पर छापा मारा और एक बड़े खजाने पर कब्जा कर लिया। Shivaji की ताकत ने Bijapur के सुल्तान में भय पैदा कर दिया और वह शिवाजी को पकड़ने के तरीके खोजने लगे। उन्होंने इस कार्य के लिए Afzal Khan को नियुक्त किया।

Khan ने दावा किया कि वह Shivaji को जब्त कर लेगा। जब वह Pratapghad पहुंचे, तो Shivaji दो गार्डों के साथ किले से नीचे आए। Khan अपने दो गार्ड के साथ भी आया था। Khan ने Shivaji के प्रति प्रेम का भाव जताया और उसे गले से लगाते हुए छुरा घोंपने का प्रयास किया।

हालांकि, हत्या का प्रयास विफल हो गया और Shivaji ने Khan को एक हथियार के साथ मार दिया, जिसे Bagnak के नाम से जाना जाता था। Khan की मृत्यु के बाद, Shivaji ने पन्हाला में किले तक एक बड़े क्षेत्र पर कब्जा कर लिया। 1662 में, Bijapur के सुल्तान ने Shivaji के साथ शांति स्थापित की और उन्हें सभी क्षेत्रों के एक स्वतंत्र शासक के रूप में स्वीकार किया, जिसे वे जीतने में कामयाब रहे थे।

The Treaty of Purandhar (पुरंदर की संधि)

Shivaji ने इस जीत के बाद पश्चिमी तट पर Surat के पूर्ववर्ती बंदरगाह शहर में प्रवेश किया। शहर के Mughal Governor ने Shivaji को बातचीत करने के लिए एक दूत भेजा, लेकिन Shivaji ने दूत को पकड़ लिया और Surat में लगातार 4 दिनों तक सेंध लगाई। इसने Jai Singh के नेतृत्व में एक विशाल सेना के रूप में Aurangzeb से जवाबी कार्रवाई की। यह जानकर कि हार अनिवार्य थी, Shivaji ने 1665 के जून में पुरंदर की संधि पर हस्ताक्षर किए। इस संधि की शर्तों के अनुसार, शिवाजी ने 23 क्षेत्रों को मुगलों को सौंपने पर सहमति व्यक्त की। उन्होंने राज्य की संप्रभुता को भी स्वीकार किया।

Shivaji’s Arrest (शिवाजी की गिरफ्तारी)

1666 के मई में, Shivaji ने Mughal court का दौरा किया और महसूस किया कि उनके साथ गलत व्यवहार किया गया। वह अधीर हो गया और Aurangzeb के साथ रहने लगा। Shivaji को हिरासत में लिया गया और जेल में डाल दिया गया। हालांकि, लंबे समय के बाद, वह जेल से भाग गया और Raigarh लौट आया। 1667 से 1669 तक, वह चुप रहे और पुरंदर की संधि की शर्तों का सम्मान करते हुए किसी भी सैन्य अभियान में शामिल नहीं हुए। उन्होंने इन वर्षों का उपयोग फिर से संगठित और रणनीतिक करने के लिए किया। 1670 में, Shivaji ने सूरत की दूसरी बोरी के साथ अपने सैन्य अभियानों को नवीनीकृत किया। अगले 4 वर्षों के दौरान शिवाजी ने पश्चिमी तटीय भूमि के साथ-साथ दक्षिण में भी अपनी ताकत बढ़ाई।

Shivaji’s Death (शिवाजी की मृत्यु)

Shivaji के जीवन के बाद के वर्ष उनके सबसे बड़े बेटे के व्यवहार के कारण निराशाजनक थे। उसे नियंत्रित करने में असमर्थ, Shivaji ने अपने बेटे को पन्हाला तक सीमित कर दिया। हालाँकि, राजकुमार अपनी पत्नी के साथ भाग गया और एक वर्ष के लिए Moguls के पास गया। जब वह घर वापस आया, तो वह बहुत निराश था, वह पन्हाला में फिर से सीमित हो गया। 1680 में, Shivaji बीमार पड़ गए और 52 वर्ष की आयु में हनुमान जयंती की पूर्व संध्या पर रायगढ़ किले में उनकी मृत्यु हो गई। अफवाहों ने उनकी मृत्यु के बाद, कुछ मराठों के साथ यह कहते हुए कि उनकी पत्नी ने उन्हें जहर दिया था। राजा Shivaji का उत्तराधिकार उनके बड़े पुत्र संभाजी ने किया था।

अपने समय के दौरान, Shivaji केवल एक योद्धा नहीं थे, जैसा कि कई लोग उनका वर्णन करते थे, लेकिन एक दूरदर्शी व्यक्ति भी थे। उन्होंने मुगलों से हिंदुओं को मुक्त कराया और एक ऐसी सरकार बनाई जो एकता, शांति, न्याय के साथ-साथ स्वतंत्रता के सिद्धांतों से प्रेरित थी। उनके आकर्षण ने मराठों के लोगों को एकजुट किया, और उनकी प्रशासनिक व्यवस्था में, राजा शिवाजी ने असामान्य ज्ञान दिखाया।

उन्होंने India में 17th century की राजनीति में नौसैनिक शक्ति के Indian culture बढ़ते महत्व की सराहना की। उन्होंने अपनी खुद की नौसेना बनाना शुरू कर दिया, ऐसा करने वाले India के कुछ नेताओं में से एक।  के इतिहास में उनका महत्व आज भी मौजूद है, क्योंकि कई लोग उन्हें स्वतंत्रता और स्वतंत्रता के नायक के रूप में मानते हैं।

Lal Bahadur Shastri Biography: Early Life, Death, History लाल बहादुर शास्त्री जीवनी

Chandrashekhar Azad Biography in Hindi: चंद्रशेखर आजाद की जीवनी