करेले के फायदे, उपयोग और नुकसान – Bitter Gourd Benefits, Uses and Disadvantage in Hindi

0
70
Karela Benefits in Hindi
Karela Benefits in Hindi

Karela ke Fayde in Hindi: करेले को कुछ खास स्वास्थ्यवर्धक सब्जियों में गिना और उपयोग में भी लाया जाता है। इसका स्वाद कड़वा होने के कारण कई लोग इसे पसंद नहीं करते, लेकिन कड़वा होने पर भी यह स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद है।करेला से कई बीमारियों के होने वाले बुरे प्रभाव व उनके लक्षणों को कम करने की क्षमता पाई जाती है।

डॉक्टर और अन्य अनुभवी व्यक्ति के अनुसार शरीर के लिए करेले को बहुत ही फादेमंद (Karela ke Fayde) बताया गया हैं। करेला भले ही कड़वा है परन्तु इसके बहुत सारे लाभ है जो शरीर की कई बीमारियों को काम करने बचाव के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

Karela ke Fayde In Hindi

करेला क्या है?- What is Bitter Gourd

करेला एक हरी सब्जी है और यह स्क्वैश परिवार से संबंध रखता है । करेले का वैज्ञानिक नाम मोमोर्डिका चरैन्टिया माना जाता है। इसे अंग्रेजी में बिटर मेलन और बिटर गॉर्ड के नाम से भी पहचाना जाता है। करेला की मोमोर्दिका चरैन्शिया कुकुरबिटेसी की प्रजाति का होता है। ये एक उपोष्णकटिबंधीय लता या बेल होती है।

करेला की उत्पत्ति भारत में ही हुई और इसे चीन की तरफ से 14 वीं शताब्दी में इसे पेशा किया गया था। इसके अलावा देखा जाये तो, इसे बंगाली में कॉरोला, कन्नड़ में हगालाकायी और हिंदी में करेला कहा भी कहा जाता है।

यह अफ्रीका, कैरिबियन, भारत और मध्य पूर्वी देशों में बहुत प्रचलित है। पूर्वी एशिया, दक्षिण एशिया और दक्षिण पूर्व एशिया के व्यंजनों में इसका उपयोग बड़े पैमाने पर किया जाता है।

How to Use Bitter Gourd – करेले का उपयोग

करेले की सब्जी बनाई जा सकती है। करेले का अचार भी बनाया जा सकता है। करेले का जूस पी सकते हैं। करेले का रस बालों में लगाया जा सकता है। करेले से मोटापा भी दूर किया जा सकता है।

Karela ke Fayde in Hindi | करेला के फायदे | Karela Benefits

नीचे जानिए स्वास्थ्य के लिए करेला खाने के फायदे (Karela ke Fayde in hindi)

वजन घटाने के लिए

वजन घटाने के घरेलू उपाय के तौर पर भी करेला एक बड़ी ही अच्छी भूमिका निभा सकता है। दरअसल, एक वैज्ञानिक शोध के अनुसार बढ़ते वजन के लिए करेले के फायदे देखे जा सकते है। अध्ययन के निष्कर्ष के मुताबिक में पाया गया कि उच्च वसा को लेने से चूहों में करेले का एंटीओबेसिटी प्रभाव पाया जाता है,

जिससे बढ़ते वजन में रुकावट पाई गयी है। इसके साथ ही साथ लिपिड मेटाबोलिज्म में बढ़ोतरी देखि गई है । हालांकि, मनुष्यों पर इसके प्रभाव के लिए अभी और शोध करना बाकी है।

कैंसर से बचाव के लिए

करेले के औषधीय गुणों की बात की जाए तो यह कैंसर के जोखिम को भी कम करने में बहुत ही सहायता कर सकता है। आयुर्वेद के शोध के अनुसार करेले का उपयोग कैंसर जैसी बीमारी के इलाज में भी किया जा सकता है। शोध में देखा गया है कि करेला का उपयोग कैंसर कोशिकाओं के निर्माण में बाधा डालने का काम कर कैंसर के जोखिम को काम करने में मदद कर सकता है।

यह प्रोस्टेट कैंसर और पेट के कैंसर से बचाव में सहायता कर सकता है। हालांकि देखा जाये तो जरुरी नहीं है की करेले से केसार पूरा सही हो जाये बेहतर यही है कि कैंसर के लिए व्यक्ति डॉक्टर की सलाह के बाद ही करेले का इस्तेमाल करें।

आंखों के लिए

करेला आंखों के लिए बहुत ही लाभकारी होता है। दरअसल, यह बात कर्नाटक के मुदिगेरे कॉलेज ऑफ हॉर्टिकल्चर के एक शोध में सामने आई है। शोध में कहा गया कि इसमें मौजूद बीटा कैरोटीन आंखों की बीमारियों के जोखिम से काम करने और बचाव कर करता है। इतना ही नहीं यह आंखों की रोशनी तेज करने में भी मदद करता है ।

सूजन के लिए

करेले में एंटी-इन्फ्लामेटरी गुण पाए जाने से इसे सूजन को दूर करने में लाभ कारी होता है। करेले का सेवन सूजन के जोखिम से बचाव करने में मददगार साबित होता है । यह सूजन के कारण होने वाली समस्याओं में बहुत ही लाभकारी हो सकता है, इस पर और शोध की आवश्यकता है।

Side Effects of Bitter Gourd – करेले के नुकसान

गर्भावस्था में करेले का सेवन नहीं करना चाहिए । करेले में कुछ ऐसे तत्व पाए जाते हैं, जो गर्भपात का कारण बन जाता है । बेहतर यही है कि प्रेगनेंसी में करेला खाने के नुकसान से बचने के लिए इसका सेवन बिलकुल भी न करें। सिर्फ गर्भावस्था वाली ही औरत ही नहीं, बल्कि स्तनपान कराने वाली महिलाओं को भी करेले के सेवन से बचना चाहिए।

करेले में कुछ विषाक्त तत्व भी पाए जाते है, जो स्तनपान कराने वाली मां से उनके शिशु में जा सकते हैं। जो मधुमेह के रोगी डायबिटीज की दवा का सेवन कर रहे हैं, वे करेले का सेवन करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें। करेला ब्लड शुगर की मात्रा को भी कम करने में मदद कर सकता है।

ऐसे में डायबिटीज की दवा के साथ करेले का सेवन करना नुकसान साबित हो सकता है। कुछ व्यक्तियों को करेले का सेवन दस्त, पेट में ऐंठन और सिरदर्द का कारण बन सकता है।

नीम के फायदे, उपयोग और नुकसान – Neem Benefits, Uses and Side Effects in hindi

हल्दी के फायदे, उपयोग और नुकसान – Turmeric benifits, use or disadvantage

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here