मधुमेह (diabetes) के लिए दवाओं से भी बढ़कर हैं ये घरेलू उपचार

डायबिटीज कंट्रोल करने के उपाय: जीवनशैली में बदलाव से रक्त शर्करा (blood sugar) के स्तर पर बहुत प्रभाव पड़ता है। हमारे घरों में आसानी से उपलब्ध होने वाले खाद्य पदार्थ और जड़ी-बूटियाँ (foods and herbs) मधुमेह को नियंत्रित करने में और उससे संबन्धित जटिलताओं के जोखिम को कम करने के लिए अत्यधिक उपयोगी हैं।

मधुमेह (diabetes) के लिए दवाओं से भी बढ़कर हैं ये  घरेलू उपचार

Diabetes Foods To Eat For Diabetes Control in Hindi: मधुमेह (diabetes) हमारे शरीर में रक्त शर्करा(blood sugar) के स्तर और इंसुलिन(insulin) के स्तर को प्रभावित करता है। मधुमेह में रक्त ग्लूकोज(glucose) की वृद्धि होती है। इंसुलिन हार्मोन हमारे शरीर में ऊर्जा के लिए इस्तेमाल होने वाले ग्लूकोज के प्रवेश को नियंत्रित करता है। मधुमेह या तो इंसुलिन के उत्पादन के लिए शरीर की अक्षमता के कारण होता है या उत्पादित इंसुलिन का उपभोग करने में असमर्थता के कारण होता है।

जीवनशैली में बदलाव से रक्त शर्करा (blood sugar) के स्तर पर बहुत प्रभाव पड़ता है। हमारे घरों में आसानी से उपलब्ध होने वाले खाद्य पदार्थ और जड़ी-बूटियाँ (foods and herbs) मधुमेह को नियंत्रित करने में और उससे संबन्धित जटिलताओं के जोखिम को कम करने के लिए अत्यधिक उपयोगी हैं।

मधुमेह(diabetes) के लिए दवाओं से भी बढ़कर हैं ये घरेलू उपचार

इस लेख में हम दस खाद्य पदार्थों और जड़ी-बूटियों के बारे में चर्चा करेंगे जो मधुमेह से पीड़ित लोगों को फायदा पहुंचा सकती हैं।

(1) अलसी (flax seeds)

flax-seeds-controle-suger

अलसी फाइबर का समृद्ध स्रोत हैं जो पाचन तंत्र के लिए मददगार हैं। वे फेट(fats) और ग्लूकोज की खपत में भी मदद करती हैं। नियमित रूप से अलसी का सेवन ब्लड शुगर लेवल को कम करने में फायदेमंद है।

(2) एलो वेरा (Aloe Vera)

aloe vera for diabetes control in hindi

एलो वेरा ब्लड शुगर के स्तर को कम करने में प्रभावी है। रिसर्च ने यह भी बताया है कि पैंक्रियास (pancreas )में बीटा कोशिकाओं(cells) की सुरक्षा और मरम्मत में एलोवेरा सहायक होता है। यही कोशिकाए इंसुलिन का उत्पादन करती हैं। एलो वेरा जूस का सेवन इंसुलिन के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करता है।

यह भी पढ़े: Aloe vera In Hindi | एलो वेरा  के फायदे, नुकसान , प्रयोग

(3) दालचीनी का पाउडर लेना भी है बहुत फायदेमंद (Cinnamon Powder)

Cinnamon Powder for diabetes control in hindi

दालचीनी इंसुलिन के उत्पादन की हमारे शरीर की क्षमता को नियंत्रित करती है और रक्त शर्करा के स्तर के नियंत्रण करने में बहुत प्रभावी है। मधुमेह को कम करने के लिए दूध के साथ सीमित मात्रा में दालचीनी पाउडर का नियमित सेवन फायदेमंद है। 

(4) नीलबदरी के पत्ते (Blueberry Leaves)

Blueberry Leaves for diabetes control in hindi

नीलबदरी (ब्लूबेरी) की पत्तियां हमारे शरीर में चयापचय की प्रक्रिया को बढ़ाती हैं। यह शरीर के विभिन्न भागों में ग्लूकोज के वितरण में भी मदद करता है।

(5) मेथीदाना (Fenugreek Seed)

Methi dana for diabetes control in hindi

मेथीदाना एक और बीज है जो मधुमेह के लिए बहुत मददगार है। यह हमारे शरीर में इंसुलिन के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करता है। मेथीदाने के बीज भी पाचन में सुधार करते हैं और कब्ज से राहत प्रदान करते हैं। इसका सेवन गर्म पानी के साथ या पाउडर के रूप में किया जा सकता है। मेथी के बीज को रात भर पानी में भिगोकर सुबह खाली पेट, पानी के साथ लेना फायदेमंद होता है।

यह भी पढ़े: Methi Dane Ke Fayde | गुणो से भरपूर मेथी दाना (Fenugreek Seed) के लाजवाब फायदे

(6) गुड़मार (Gymnema)

गुड़मार  को 'चीनी का दुश्मन' भी कहा जाता है। इसके पत्तों के पाउडर के रूप में सेवन किया जा सकता है। यह शर्करा के स्तर को कम करने में मदद करता है और इंसुलिन स्राव को भी नियंत्रित करता है। यह बेल (लता) के रूप में होता है। इसकी पत्ती को खा लेने पर किसी भी मीठी चीज का स्वाद लगभग एक घंटे तक के लिए समाप्त हो जाता है।

(7) तुलसी की पत्त‍ियों के इस्तेमाल से कंट्रोल करें डायबिटीज (Holy Basil Leaves)

तुलसी एंटी-ऑक्सीडेंट और विटामिन ए जैसे कई  लाभकारी तत्वों से भरपूर है। ये सभी तत्व शरीर की उन कोशिकाओं की मरम्मत करते हैं जो इंसुलिन उत्पन्न करती हैं। रोजाना 2-3 तुलसी के पत्तों का सेवन शुगर लेवल को कम करने में बहुत मददगार होता है।

यह भी पढ़े: तुलसी के फायदे (Benefits of Tulsi In Hindi): सेवन के लाभ एवं सावधानिया

(8) जामुन (Indian Blackberry or java Plum)

java Plum

जामुन शुगर के स्तर को नियंत्रित रखता है। मधुमेह के रोगियों के लिए आयुर्वेद जामुन के सेवन की सलाह देता है। इसमें फाइबर(fibers), वसा, प्रोटीन, विभिन्न विटामिन(vitamins) और खनिज(minerals) शामिल हैं। इसके बीज जंबोलिन और जाम्बोसिन(jamboline and jambosine) नामक पदार्थों से भरे होते हैं जो  शर्करा  रक्त मे शामिल होने की दर को धीमा कर देते हैं और शरीर में इंसुलिन के स्तर को भी बढ़ाते हैं।

 (9) करेला (Bitter Gourd)

करेला शरीर के ब्लड शुगर के स्तर को कम करने में प्रभावी होता है क्योंकि इसमे इंसुलिन जैसे गुण होते हैं जो शरीर की कोशिकाओं में ऊर्जा के लिए, ग्लूकोज को प्रवेश करने में मदद करते हैं। इस प्रकार करेले की खपत हमारी कोशिकाओं को ग्लूकोज का उपयोग करने में मदद करती है जिसके परिणामस्वरूप ब्लड शुगर का स्तर कम होता है।

(10) सहजन के पत्ते (Drumstick Or Moringa Leaves)

सहजन के पत्तों में रक्त शर्करा को नियंत्रित करने और ऊर्जा के स्तर को बढ़ाने में अच्छी क्षमता है। सहजन की पत्तियों में पोषक तत्व होते हैं जो शरीर में इंसुलिन के स्राव को बढ़ाता है। इसके पत्ते भी एंटीऑक्सिडेंट (anti oxidants) से समृद्ध होते हैं।

जड़ी बूटी और खाद्य पदार्थ उपचार के साधन हैं, और इन्हे दवाओं की विकल्प के रूप मे इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। लोगों को हमेशा किसी भी नई जड़ी बूटी या खाद्य पदार्थ लेने से पहले डॉक्टर(doctor) की सलाह अवश्य लेनी चाहिए।